Follow us:

Tara Sansthan Blog

  • 06-Jun-2019

    Apna Ghar

    अपना घर

    हर माह आपसे रुबरु होने का तारांशु एक साहित्यिक माध्यम है, सोशल मीडिया के इस युग में प्रिंटेड पढ़ना भी अब ‘‘कुछ अलग’’ हो गया है।

    Read More


  • 08-May-2019

    Chhutti Garmi Kee...

    छुट्टी गर्मी की...

    हमारे देश की खूबसूरती ही यह है कि यहाँ सारे मौसम है और हर मौसम अपने चरम पर पूरे शवाब से आता है। ठिठुरती ठंड में अलाव, कोट और रजाई, बारिश में छाता और बरसाती और

    Read More

  • 08-May-2019

    Josh Se Bhare Bachche...

    जोश से भरे बच्चे

    तारा संस्थान में हम एक सायंकालीन स्कूल चलाते हैं, जिसका नाम है ‘‘मस्ती की पाठशाला’’। इसका विचार मेरे मन में तब आया था जब मैंने कुछ बच्चो

    Read More

  • 06-Apr-2019

    Jeevan Ka Mool Mantra

    जीवन का मूल मंत्र

    एक राजा ने अपने दरबार में घोषणा की कि मुझे एक ऐसा मंत्र चाहिए जो सारे मंत्रों से ऊपर हो जिसका हर परिस्थिति में उपयोग हो सके। सारे मंत्री और दरबारी परेशान हो गए कि

    Read More

  • 06-Mar-2019

    Aye Mere Vatan Ke Logon...

    ऐ मेरे वतन के लोगों...

    लता जी का ये गाना कहते हैं नेहरू जी की आँखों में पानी ले आया था और हम सब भी जब भी ये गाना सुनते हैं हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं। इसी गाने की एक पंक्ति ये

    Read More

  • 06-Mar-2019

    Gehun Ke Daane...

    गेहूँ के दाने...

    एक कहानी सुनी थी जो कुछ इस प्रकार थी। एक राजा के 3 बेटे थे, राजा बहुत ही सोच में रहते थे कि इनमें से किसे अपना उत्तराधिकारी बनाऊँ क्योंकि वे चाहते थे कि सबसे श्

    Read More

  • 08-Feb-2019

    Udi Udi Re Patang...

    उड़ी उड़ी रे पतंग...

    1 जनवरी की सुबह मैं घर से निकला तो गाड़ी सीधे ‘‘तारा’’के नये वृद्धाश्रम भवन की तरफ मोड़ ली क्योंकि मुझे न्योता था कि आज आनन्द वृद्धाश्रम

    Read More

  • 28-Jan-2019

    HAPPY NEW YEAR

    HAPPY NEW YEAR

    1 जनवरी, 2019 वैसे तो सब कुछ सामान्य ही था लेकिन कैलेण्डर में बदलता हुआ साल दिल में थोड़ा उत्साह तो पैदा कर ही देता है, तो नये साल की नई सुबह में, मैं उठकर पास के

    Read More

  • 28-Jan-2019

    Ek Patra Dandataon Ke Naam

    एक पत्र दानदाताओं के नाम
     
    आप सभी आदरणीय को प्रणाम
     
    Read More

  • 05-Dec-2018

    Ghumakkad Bane...

    घुमक्कड़ बनें...
     
    मेरे पापा की उम्र 78 वर्ष है और मम्मी की 73 है। अभी पिछले साल मई में हमने धूमधाम से उनकी शादी की 50वीं सालगिरह मनाई थी। पापा राजस्थान सरकार के खनिज विभाग में

    Read More

Blog Category

WE NEED YOU! AND YOUR HELP
BECOME A DONOR

Join your hand with us for a better life and beautiful future