Follow us:

Tara Sansthan Blog

  • 20-Aug-2018

    Ek Deepak... Roshani Ka...

    एक दीपक.... रोशनी का....
     
    तारांशु का यह अंक दो तरह से विशेष है, पहला यह अंक तारा नेत्रालयों या नेत्र चिकित्सा सेवा विशेषांक है और दूसरा यह जब आप पढ़ेंगे तो ‘‘दीपावली‘‘ या तो आने वाली होगी या कुछ समय पूर्व ही गई होगी। तो आपको दो दो शुभकामन

    Read More

  • 20-Aug-2018

    Prem Ke Dhaage

    प्रेम के धागे
    रक्षा बंधन से दो दिन पहले मैं तारा संस्थान के ऑफिस में बैठी थी कि किसी ने आकर बताया कि अजमेर से बुजुर्ग आए हैं और आपसे मिलना चाहते हैं। उनसे मिली तो पता चला कि उनको मेरे द्वारा भेजी गई राखी मिली थी, वे चाहते थे कि राखी मेरे ही हाथों से बंधवाएँ सो वे अजमेर से उदयपुर त

    Read More

  • 20-Aug-2018

    "Gauri" Ek Maa... Sirf Bachcho Ke Liye...

    ”गौरी“ एक माँ... सिर्फ बच्चों के लिए...
    मैंने बचपन में एक कहानी पढ़ी थी पूरी कहानी तो याद नहीं कर तो धुंधली सी यादे हैं, उसका कुछ सार इस प्रकार है कि ‘‘एक मुर्गी अपने चूजों के साथ रहती है और उसे पता चलता है कि अगले दिन उसे काटा जाएगा तो वो अपने चूजों से कहती

    Read More

  • 18-Aug-2018

    Aap Bhi Amar Ho Sakte Hain...!

    आप भी अमर हो सकते हैं...!
     
    अभी कुछ दिनों पहले ही तारा संस्थान के ऑफिस में मेरे पापा आदरणीय डॉ. कैलाश जी ‘‘मानव’’ आए थे। उनके साथ अनौपचारिक बातचीत चल रही थी जिसमें मैं, दीपेश जी और पापा ही सम्मिलित थें। बातों बातों में पापा ने कहा कि बेटा

    Read More

  • 18-Aug-2018

    Darvaje Par Bhojan... "Tripti"

    दरवाजे पर भोजन.... ‘‘तृप्ति’’
     
    तारांशु पत्रिका का यह अंक तृप्ति योजना को केन्द्र में रखकर बना है.... तो सोचा कि क्यों ना इसी योजना के बारे में अपने विचार आप सभी से बाँटु। तारा संस्थान ने तारा नेत्रालय उदयपुर प्रारंभ होने के पूर्व में ही

    Read More

  • 18-Aug-2018

    Aapka Vishwas, Humari Nidhi..

    आपका विश्वास, हमारी निधि

    अभी कुछ दिनों पहले संस्थान की डाक में एक मुझे एक पत्र मिला.... यह पत्र 17-18 वर्ष की एक बालिका का था। पत्र का सार कुछ इस तरह का था : मैं 12वीं विज्ञान में पढ़ रही हूँ, मेरा सपना इंजीनियर बनने का है क्योंकि

    Read More

  • 18-Aug-2018

    Dard Ke Rishtey...

    दर्द के रिश्ते....

    सर्दियों का मौसम वैसे तो अच्छा लगता है : गर्म कपड़े पहनते हैं, रेवड़ी, गजक, लड्डू वगैरह खाते हैं। शादियों में जाओ तो वहाँ गाजर का हलवा या दाल का हलवा तो होता ही है लेकिन यही सर्दियाँ हमारे बुजुर्गों के लिए कई बार तकल

    Read More

  • 18-Aug-2018

    Nayaa Saal Nayaa Sankalp

    नया साल नया संकल्प

    कभी हँसाती है तो कभी रुलाती है, ये जिंदगी भी न जाने कितने रंग दिखाती है, हँसते हैं तो भी आँखों में नमी आ जाती है।
    दुआ करते है कि नए साल के अवसर पर हमारे ‘‘अपनो’’ के होंठों पर सदा

    Read More

  • 18-Aug-2018

    60 Varsh Se Upar Ke "Yuvaon" Ke Liye Fashion Show : 10 April, 2016

    60 वर्ष से ऊपर के ‘‘युवाओं’’ के लिए फैषन शो : 10 अप्रैल, 2016 
     
    बचपन से स्कूल की किताबों में पढ़ते आए थे कि भारत एक ऐसा देश है जिसमें विभिन्न भाषा

    Read More

  • 18-Aug-2018

    Anand Vrudhashrm Visheshaank Kyon?

    आनन्द वृद्धाश्रम विशेषांक क्यों?


    तारांशु एक माध्यम है हमारी बात आप तक पहुँचाने का... और तारा संस्थान जो कुछ कर पा रही है वो तभी संभव है जब आप सभी का सहयोग बना रहे और यह सहयोग निरंतर बना रहे यह भी आवश्यक है क्योंकि कोई हमें साल में एक बार, कोई 6 महीने में एक बार, कोई महीने में एक

    Read More

Blog Category

WE NEED YOU! AND YOUR HELP
BECOME A DONOR

Join your hand with us for a better life and beautiful future